भूपेश v/s टी. एस : राहुल गाँधी टी. एस. सिंह देव को मुख्यमंत्री की शपथ दिला सकते है ? अगले सप्ताह 3-4 दिनों के लिए छः गढ़ दौरे पर रहेंगे राहुल गाँधी

नई दिल्ली/ रायपुर 28 अगस्त 2021/ छत्तीसगढ़ में मुख्यमंत्री पद को लेकर सियासी घमासान बहुत सरगर्मी पर है किसी भी पल कुछ भी हो सकता है ऐसा अनुमान लगाया जा रहा है।आलाकमान से इतनी मुलाकातों के बाद भी अभी तक स्थिति स्पष्ट नहीं हो पाई है। पर दाल में कुछ तो काला है यह साफ नज़र आ रहा है।

सोचने पर मजबूर करने वाली बात यह है कि-

राहुल गांधी का अगले सप्ताह छत्तीसगढ़ का दौरा अचानक से स्वीकार करना भी सोचने पर मजबूर कर रहा है। कि कही राहुल गांधी टी. एस सिंह देव को शपथ दिलाने के कार्यक्रम में शामिल होने के उद्देश्य से तो नहीं आ रहे है।

उधर टी. एस सिंह देव जी का दिल्ली में टिके रहना और कल की बैठक के बाद से मीडिया में कोई भी ख़बर/बाइट पर चुप्पी भी बहुत कुछ सोचने पर मजबूर कर रहा है। की कही आलाकमान से टी एस सिंह देव को हरी झंडी का संकेत मिल गया हो।

इधर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को आलाकमान से मुलाकात करने के निमंत्रण पर एक दिन पूर्व हुई राहुल गाँधी व पी एल पुनिया के साथ बैठक के बाद पुनः दूसरे दिन दिल्ली मुलाकात के लिए रवाना होना भी सोचने पर मजबूर कर रहा है। और जब किसी भी मंत्री मंडल और विधायकों को आमंत्रण नही था तब भी 50 से अधिक विधायक भूपेश के समर्थन में दिल्ली जाने की बात भी कुछ हजम नही हो रही कि इतने लोगो का समर्थन क्यो आवश्यक हुआ जब कुछ नही बदलने वाला था तो स्थिति यह साफ नज़र आ रही है कि कुछ न कुछ तो दाल में काला है।

सीएम की कोर टीम ने तय किया कि अपने विधायकों को लेकर दिल्ली जाएंगे और राहुल गांधी से मुलाकात करेंगे। जब विधायक दिल्ली पहुंचे तो आलाकमान ने मुलाकात से साफ इन्कार कर दिया। लेकिन विधायकों से राष्ट्रीय महासचिव केसी वेणुगोपाल की कांग्रेस मुख्यालय में विस्तार से चर्चा की। यह सारी रणनीति सफल रही। जिसके परिणाम स्वरूप छत्तीसगढ़ में सत्ता का संघर्ष फिलहाल कुछ दिनों के लिए टल गया है।