संयुक्त परिवारों में एकल राशन कार्ड व्यवस्था में सुधार के लिए प्रदेश महा सचिव द्वितेन्द्र मिश्र ने खाद्य मंत्री को लिखा पत्र… इस तरह के फरमान पर पुनः समीक्षा का दिया सुझाव

अम्बिकापुर 19 नवम्बर 2020 / अम्बिकापुर के गाँधिनगर वार्ड क्र.07 का एक मामला सामने आया है जिसमे गांधीनगर वार्ड में निवासरत एक परिवार के मुखिया कार्ड धारक सरिता केशरी अपने पति व दो बच्चों एवं सास-ससुर के साथ 6 सदस्यीय कार्ड धारित किये हुए हैं। विगत एक वर्ष से इनके सास-ससुर बुजुर्ग दम्पत्ति निर्मला केशरी – शिवनाथ के साथ अलग रह रहे है। तथा अपना अलग राशन कार्ड बनवाना चाहते हैं। जबकि पहले इनका राशन कार्ड अलग बना था। बाद में संयुक्त परिवार के रूप में नाम शामिल कर राशन कार्ड बन गया। सरिता केशरी पूरा राशन उठा रही है और बुजुर्ग दम्पत्ति राशन से वंचित होकर कभी निगम के तो कमी फूड ऑफिस के चक्कर लगाते परेशान हो रहे हैं। इस प्रकरण को गंभीर समस्या के रूप में समझते हुए प्रदेश महासचिव श्री द्वितेंद्र मिश्र ने उक्त मामले को संज्ञान में लिया और इस संबंध में उन्होंने जिला खाद्य अधिकारी से बात किया तो जिला खाद्य अधिकारी ने शासन के निर्देशों का हवाला देते हुए अलग-अलग राशन कार्ड बनाने से इनकार कर दिया। अतः उपरोक्त प्रकरण के प्रकाश में शासन को इस तरह के किसी फरमान पर समीक्षा की आवश्यकता है। क्योंकि निसंदेह इस तरह की समस्या प्रदेश में कई जगहों पर उत्पन हो रही होगी। श्री मिश्र ने खाद्य अधिकारी से संतोषप्रद जवाब न मिल पाने के कारण उन्होंने सीधे छः गढ़ शासन के खाद्य मंत्री श्री अमरजीत भगत को पत्र लिख मामले को गंभीरतापूर्वक लेकर मामले पर जल्द से जल्द कार्यवाही करने की बात कही है जिससे राशनकार्डधारक को आगामी समय पर इस समस्या का सामना न करना पड़े।